छत्तिसगढ़ के रायपुर में बीते 30 मार्च को एक अनोखे सामूहिक विवाह को अंजाम दिया गया. जिसमें 15 किन्नर ने एक साथ आम पुरुषों से शादी की थी. जिसकी तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई है. लेकिन अब उस शादी को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है.

सोशल मीडिया पर वायरल हुई ये तस्वीरें जिसमें इन सभी किन्नर को आपने शादी करते हुए देखा वो शादी महज एक फर्जीवाड़ा साबित हुई. जिस शादी की मिसाल हर किसी की जुबान पर थी. उस शादी की हकीकत वो नही जो आपने स्क्रीन पर देखी बल्की कुछ और ही थी.

सात फेरों से जुड़ने वाला ये रिश्ता महज एक दिखावा था. जी हां जिस शादी की चर्चाएं आज हर जगह फैल गई हैं वो शादी नही बल्की एक फिल्म की शूटिंग थी. जिसके कलाकार थे मेल-फीमेल किन्नर. जो कि चित्रगाही फिल्म के बैनर तले बनाई जा रही थी. इस फर्जीवाड़े का खुलासा उस वक्त हुआ जब फिल्म के डायरेक्टर ने कालाकारों को उनके पूरे पैसे देने से इंकार कर दिया. जिसके बाद सभी किन्नर कलाकारों ने उस डायरेक्टर को पुलिस थाने पहुचा दिया.

जरुर पढ़ें:  टीचर के क्लास में पढ़ाने के इस कूल अंदाज़ को देखकर आप भी रह जाएंगे दंग, अमिताभ बच्चन ने भी की तारीफ

दरअसल हुआ यूं कि शूटिंग के लिए किन्नर कलाकारों की फीस 50-50 हजार तय की गई थी. कहा तो ये भी गया था कि शासन भी 50 हजार रुपये का गिफ्ट देगी. लेकिन शूटिंग खत्म होते ही डायरेक्टर ने कलाकारों को 50-50 हजार की जगह 5-5 हजार रुपये थमाने शुरू किए. तो मामला बिगड़ गया. जिसके बाद सभी किन्नर ने मिलकर डायरेक्टर को जमकर पीटा. और थाने पहुंचा दिया.

आखिरकार दो दिन थाने में बिताने के बाद डायरेक्टर ने किन्नरों को वायदा किया कि 12 अप्रैल को फिल्म रिलीज होने के बाद वो बाकी का पैसे भी उन्हें दे देंगे. हालांकि किन्नरों ने डायरेक्टर को चेतावनी दी है कि अगर वो पैसा नहीं देते हैं तो वो लोग कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे.

जरुर पढ़ें:  Khatron ke Khiladi 9:शमिता शेट्टी ने 'टिकट टू फिनाले' जीतने के बाद भारती सिंह को कही ये बड़ी बात

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here