दुनिया में जितनी तरह की जगह, उतने ही तरह के लोग हैं। लोग अलग, उनके नियम-कानून भी अलग। बस इसी वजह से हर चीज की मान्यता या त्यौहारों के रिवाज भी हर जगह अलग-अलग हैं, लेकिन हिन्दू धर्म में दिवाली ही एक ऐसा  त्यौहार जो हर जगह एक ही तरह और एक ही दिन मनाया जाता है। लेकिन इस देस में एक गांव ऐसा भी है, जो 7 दिन पहले ही दिवाली मना लेता है।

Demo Pic-Diwali

इस साल देशभर में दिवाली 19 अक्टूबर को मनाई जाएगी, ये सब को पता है, इसलिए इस तारीख का बड़ी ही बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं, लेकिन छत्तीसगढ़ के एक गांव के लोगों के लिए ये तारीख कोई मायने नहीं रखती, क्योंकि यहां दिवाली एक हफ्ते पहले ही मना ली गई है। इतना ही नहीं दिवाली के अलावा ये तीन और त्यौहारों को हफ्ते भर पहले निपटा लेते हैं, इसके पीछे वजह भी है, जो बेहद खास है।

जरुर पढ़ें:  अगर आप भी अपने घर में अगरबत्ती जलाते है, तो हो जाइए सावधान
Demo pic-Diwali

छत्तीसगढ़ के कुरुद ब्लॉक के सेमरा-सी गांव में दिवाली से एक हफ्ते पहले ही दिवाली सी रौनक होती है और यहां एडवांस में खुशियां और लक्ष्मी जी पहुंच जाती हैं। ये यहां की अनोखी परंपरा है, जो दशकों से चली आ रही है और गांव वाले इसे मानते आ रहे हैं। परंपरा को मानने के पीछे वजह ये है, कि कई साल पहले गांव के सरंपच के सपने में ग्राम देवता सिदार देव आए थे, उन्होंने गांव की खुशहाली के लिए गांव के लोगों से ऐसा करने को कहा था, तभी से गांव से लोग दिवाली से सात दिन पहले ही दिवाली मना लेते हैं।

जरुर पढ़ें:  आपको पता है, हम दिवाली क्यों मनाते हैं? नहीं तो ये ज़रूर पढ़ें
Demo Pic-Villagers decorate home before Diwali

सिर्फ दिवाली ही नहीं तो गांव के लोग धनतेरस, भाईदूज और गोवर्धन पूजा को इन त्योहारों से सात दिन पहले ही मना लेते हैं। यहां के लोग दिवाली का त्यौहार सिदार देव सिंह के मंदिर के पास जाकर बड़े ही धूम-धाम से मनाते हैं।

Loading...