हम सभी घर के बाहर किसी डेस्टिनेशन के लिए या टूअर पर निकलते हैं, तो हमें रास्ता दिखाने का काम अगर कोई करता है, तो वो होते हैं, सड़क पर लगे साइनबोर्ड और माइलस्टोन। ये मील के पत्थर हमें हमारी मंजिल के पते के साथ ही, ये भी बताते हैं, कि हमारा ठिकाना कितना दूर है। लेकिन आपको आपकी मंजिल तक ले जाने वाले इन पत्थरों के रंगों पर शायद ही आपने कभी गौर किया हो। कोई मील का पत्थर पीले का रंग का होता है, कोई हरा और काला और कुछ लाल। लेकिन ऐसा क्यों? 

दरअसल इन पत्थरों के कलर के पीछे भी सबकी अपनी पहचान है। अब अगर सफर पर आप निकलेंगे तो यकीनन इन रंगों पर गौर करेंगे। करना भी चाहिए, क्योंकि ये पत्थर सिर्फ आपको दूरी ही नहीं दिखाते बल्कि इनके रंग आपको सड़कों की खास पहचान बताते हैं। जीहां ये जानकारी शायद ही आपको हो लेकिन इन मील के पत्थरों पर पुते इस विशेष रंग का अपना मतलब होता है। तो आइए हम आपको बताते हैं, कि इन रंग-बिरंगे मील के पत्थरों के रंग आपको क्या बताते हैं।

जरुर पढ़ें:  शादी के तीन दिन तक दूल्हा-दुल्हन का होता है टॉर्चर, इस रस्म को जानकर सहम जाएंगे

नारंगी रंग का मील का पत्थर

अगर आप ट्रैवल कर रहे हैं और रास्ता भटक जाए। जाना आपको शहर हो लेकिन आप जान नहीं पा रहे हैं, कि आप शहर जा रहे हैं या गांव तो घबराने की बात नहीं है। सड़क पर किनारे लगे पत्थरों पर नज़र दौड़ाइए। अगर आपको नारंगी रंग का मील का पत्थर नजर आ जाए, तो समझिए कि आप किसी गांव की ओर बढ़ रहे हैं। क्योंकि इस रंग के माइलस्टोन सिर्फ ग्रामीण सड़क पर ही लगे होते हैं। और इसका अर्थ ये हुआ, कि आप प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना से बनी सड़क पर सफर कर रहे हैं, जो आपको किसी गांव तक ले जाएगी।

जरुर पढ़ें:  सोशल मीडिया पर पॉप्यूलर होने के लिए किया ये सनकी कारनामा
Demo pic

हरा मील का पत्थर

अापने सफर के दौरान सड़क किनारे इस रंग का पत्थर तो ज़रूर देखा होगा। अमूमन आपको इसी कलर के माइलस्टोन देखने को मिलते हैं। क्योंकि ज्यादातर इलाकों में यही लगे होते हैं। दरअसल आपको अगली बार अगर  इस रंक के पत्थर मिले तो आप समझ सकते हैं, कि आप किसी स्टेट हाई-वे से गुजर रहे हैं, जो एक राज्य से दूसरे राज्य को जोड़ता है। इस सड़क का निर्माण राज्य सरकार करती है, इसलिए इसके रखरखाव की जिम्मेवारी राज्य सरकार की होती है। इसका निर्माण भी राज्य सरकारें ही करती हैं।

Demo pic

पीला मील का पत्थर

सड़क किनारे बना हुआ पीला माइलस्टोन आपको राष्ट्रीय राजमार्ग पर होने का संकेत देता है। यानी जब आप नेशनल हाईवे पर सफर कर रहे हो, तो आपको रास्ते में इसी रंग के पत्थर मिलेंगे। ये केंद्र सरकार की ओर से बनाई सड़कों पर लगे होते हैं और इन सड़कों की निर्माण और रख-रखाव की जिम्मेवारी केंद्र की होती है।

जरुर पढ़ें:  जिसे हमने देसी और गवई समझकर छोड़ दिया, उसे विदेशी हाथों-हाथ ले रहे हैं
Demo pic

काला मील का पत्थर

इस रंग के पत्थर आपको किसी बड़े शहरों में ही देखने मिलते हैं। दिल्ली, गुड़गांव या फिर पुणे, मुंबई जैसे शहरों में दरअसल काले रंग पुते ये मील के पत्थर ये बताते हैं, कि आप किसी बड़े शहर या जिले की तरफ बढ़ रहे हैं। इन रंगों के माइलस्टोन वाली सड़कें शहर के प्रशासन के अंडर होती है। नगरीय निकाय इन सड़कों का निर्माण करता है। कई जगह पूरे सफेद रंग वाले मील के पत्थर भी लगे होते हैं, इनका मतलब भी यही है, कि आप किसी शहर की तरफ जा रहे हैं।

Demo pic

है ना मज़ेदार, तो अब आप जब भी सड़क किनारे गुजरे तो, आपको सड़कों पर लगे पत्थर ही बता देंगे, कि आप गांव, शहर या फिर नेशनल हाईवे पर है, किसी से पूछने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।