26\11 मुंबई हमले को आज 9 साल बीत चुके हैं, पर आज भी उस भयावह घटना की यादें हमारे दिल में सुई की तरह चुभती हैं। इस घटना को अंजाम देने वालों को सजा तो मिल चुकी है पर ये घटना आज भी हमारी सुरक्षा व्यवस्था की कमी की ओर इशारा करती है।

Mumbai-Attack

26\11 हमले के मास्टर माइंड डेविड हेडली के बारे में तो हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं, लश्कर ए तैय्यबा के इस आतंकी को अमेरिकी क़ानून के हिसाब से 35 साल की सजा सुनाई गयी है, लेकिन 8 फरवरी 2016 को इसकी मुंबई स्पेशल कोर्ट में पेशी हुई। यह पहली बार था जब किसी विदेश में जेल काट रहे कैदी की किसी दूसरे देश में पेशी हो।

इस पेशी के दौरान डेविड हेडली ने कुछ चौंकाने वाली बातें सामने रखी थीं, उसने बताया था, कि 26\11 हमले के बाद वो 8 बार भारत आया था। हेडली ने बताया कि वो लश्कर का पक्का सपोर्टर था और लश्कर के सरगना साजिद मीर के कहने पर ही वो भारत आया था। वो चाहता था की डेविड भारत में अमेरिकी बनकर कोई बिज़नस स्टार्ट करके वहीं रहे, इसके लिए उसने वीजा में पासपोर्ट, DOB और माँ के नाम के अलावा सब गलत भरा गया था.हेडली ने बताया कि मुंबई हमला पहले दो बार नाकाम हो चुका था, पहली बार ये कोशिश सितम्बर 2008 में समुद्र में नाव पलट जाने की वजह से हथियारों का जखीरा खो गया था। उसके बाद अक्टूबर में भी यही वाकया होने की वजह से ये इस बार भी कोशिश नाकाम रही थी। तीसरी बार इसे 26\11 के हादसे के रूप में अंजाम दिया गया।

हेडली ने इस पेशी के दौरान बताया, कि उसने ही आतंकियों को शहर में घुसने का प्लान बताया था,उसने ये भी बताया कि आतंकी मीर मुंबई हमले के लिए chalchalo@yahoo.com मेल आईडी का यूज करता था। मेजर अली ने ही मुझे ISI के मेजर इकबाल से मिलवाया। साजिद मीर और मेजर इकबाल मेरा इंडियन वीजा देखकर खुश थे। राणा हुसैन के बारे में हेडली ने कहा, ‘मैं राणा से पंजाब प्रांत के एक मिलिट्री स्कूल में मिला था. राणा और मैं पांच साल स्कूल में साथ पढ़े थे. स्कूल के बाद राणा आर्मी स्कूल में डॉक्टर बन गया था।

जरुर पढ़ें:  दुनिया का अनोखा समंदर जहां इंसान डूबता ही नहीं, खूबियां आपके होश उड़ा देगी
Mumbai-Attack

डेविड हेडली का असली नाम दाऊद सईद गिलानी है। मुंबई अटैक से पहले हाफिज सईद, साजिद मीर, ISI के कहने पर दाऊद सईद गिलानी का नाम बदलकर डेविड हेडली कर दिया गया। ताकि हेडली के पाकिस्तानी होने का किसी को शक न हो, उसकी इंडिया से नफरत की वजह 1971 की लड़ाई में पाकिस्तान की हार और बांग्लादेश का जन्म है। इंडियन फोर्स की बमबारी में हेडली का स्कूल तबाह हो गया था। डेविड हेडली ही वो बंदा है, जिसने मुंबई अटैक में ISI और हाफिज सईद के शामिल होने की बात मानी थी।

Loading...