गर्मियों का मौसम शायद ही किसी को पसंद हो. लेकिन आम का मौसम सबको पसंद है. जी हां गर्मियां आती हैं साथ ही रसीले आमों के लिए मन ललचाना शुरू हो जाता है. और हो भी क्यों न आखिर आम सभी के फेवरेट जो होते हैं. वो तरह तरह कि किस्मों के मीठे और स्वादिष्ट आम बस देखो तो मन ललचा जाए. लेकिन जो लोग डायबिटीज मरीज होते हैं वो लोग इन आमों का लुत्फ नहीं उठा पाते. क्योंकि खुद डॉक्टर भी उन्हें आम खाने से रोक देते हैं. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. डायबिटीज मरीज भी जी भर के आम खा पाएंगे.

जी हां सही सुना आपने, अब आम की एक ऐसी किस्म तैयार की गई है. जिसको शुगर के मरीज भी मन भर के खा सकते हैं. और इससे शुगर लेवल रत्ती भर नहीं बढ़ेगा. ये दावा सोशल मीडिया पर वायरल हो रहीं इन तस्वीरों का है. जिसमें लिखा है कि ये फल असल में जामुनी रंग के आम हैं जो 10 साल की कड़ी मेहनत के बाद आम और जामुन को मिलाकर बनाए गए हैं. साथ ही ये भी कहा गया है कि डायबिटीज के लिए तैयार किए गए ये आम उत्तर प्रदेश के खेतों में पककर तैयार किए गए है.

जरुर पढ़ें:  न्यूजीलैंड की क्राइस्टचर्च में हुए हमले के बाद लोगो ने इस तरह की सरकार की मदद

लेकिन जैसे जैसे ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होती जा रही है. कई यूजर्स इसकी सच्चाइ पर सवाल भी खड़े कर रहे हैं.  ऐसे में हमारे एक दर्शक ने हमसे इस वायरल दावे की पड़ताल करने मांग की, बस फिर क्या वीके न्यूज की टीम ने इसकी पड़ताल की तो पता चला वायरल हो रही आम की ये तस्वीरें फेक नहीं है, हालांकि इन दोनों तस्वीरों के साथ जो दावा किया गया है वो बिल्कुल फेक है. यानी इन आमों को 10 साल की कड़ी महनत से नहीं बनाया गया है और अगर ये आम यूपी में भी पाए गए हैं तो इस बात का खुलासा अभी नहीं हो पाया है कि यूपी में इस आम की किस्म कहा पाई गई है.

जरुर पढ़ें:  देश के विकास में एक और पहल, मोदी सरकार पर लगा चुनाव प्रचार का आरोप

दरअसल जामुनी आम की उन तस्वीरों के गूगल रिवर्स इमेज टूल पर डाला गया तो पता चला कि ये अमेरिका में उगाई की गई दो अलग-अलग किस्मों की है. जिसमें पहली किस्म का नाम पामर है और दूसरी किस्म का नाम टॉमी एटकिन्स है. दरअसल आम की ये किस्म अमेरिका के फ्लोरिडा में विकसित की गई थी. लेकिन अब ब्राजील में भी काफी मात्रा में उगाई जाने लगी है.

सोशल मीडिया पर वायरल होने वाला ये दावा हमारी पड़ताल में फेक निकला. यानी जामुनी आम जैसा कोई भी आम फिल्हाल भारत में ये कहां पाया गया है इस बात पर कोई खुलासा नहीं हुआ है. वीके न्यूज की मुहीम फाइट अगेंस्ट वीके न्यूज जारी रहेगा, अब आपके पास भी ऐसी कोई खबर, वीडियो  या तस्वीर है जिसकी सच्चाई पर आपको शक हो तो हमारे साथ शेयर करें , वीके न्यूज की टीम उसकी पड़ताल कर हर सच्चाइ आप तक पहुंचाएगी. फिल्हाल के हमारे साथ जुड़े रहिए, देखते रहिए वीके न्यूज और चैनल को सब्सक्राइब करना बिल्कुल न भूलें.

जरुर पढ़ें:  बीजेपी में शामिल होते ही सपना ने केजरीवाल को बनाया निशाना..

 

 

 

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here