आज की मॉडर्न लाइफ में मोबाइल हमारे जिंदगी का एक जरूरी हिस्सा बन गया है, इसमें हमारे सारे पर्सनल मामलों से जुड़े दस्तावेज़ और कंटेट होते हैं। हमारी फैमिली से लेकर ऑफिस तक के दस्तावेज हम मोबाइल में ही संभालकर रखते हैं। सीधा कहा जाए तो ये हमारी प्राईवेसी को सेफ रखता है, लेकिन जब कोई और इसी प्राइवेसी को हैक करके हमारा डाटा चोरी कर ले तो हमें कैसा लगेगा?


ऐसा ही एक खुलासा गूगल ने किया है। Google ने इस बार खुद जीमेल के बारे में खुलासा करते हुए बताया है, कि आखिर हैकर्स कैसे किसी जीमेल अकाउंट में सेंध लगाते हैं। कंपनी ने इसके लिए उन सभी संभव तरीकों पर स्टडी की है जिनके जरिए हैकर्स यूजर के अकाउंट में पहुंचते हैं। गूगल की ये रिपोर्ट 12 महीने में कई लाख जीमेल अकाउंट्स पर रिसर्च के बाद रिलीज हुई है। स्टडी में पता चला कि 7,88,000 लॉगिन पासवर्ड उसी समय चोरी हुए जिस समय आपने अपने मोबाइल या डेस्कटॉप पर जीमेल का लॉगिन डिटेल डाला। वहीं 120 लाख अकाउंट्स पिशिंग मेल के जरिए फर्जी तरीके से यूजर्स की डिटेल मांगकर हैक हुए और 330 करोड़ अकाउंट्स में थर्ड पार्टी के द्वारा हैक किया गया।
कंपनी के एक बयान के मुताबिक 12 से 25 फीसदी अकाउंट्स के वैध पासवर्ड का पता पिशिंग और की-लॉगर (पासवर्ड उसी समय चोरी हुए जिस समय आपने अपने मोबाइल या डेस्कटॉप पर जीमेल का लॉगिन डिटेल डाला) के जरिए चला। वहीं इस साल हैकर्स ने फोन नंबर, IP एड्रेस, डिवाइस टाइप और लोकेशन के जरिए अकाउंट्स में सेंध लगाए। गूगल ने ये रिसर्च UC Berkeley की टीम के साथ किया। ये आंकड़े मार्च 2016 से मार्च 2017 के बीच के हैं।

गूगल इस समस्या से निपटने के लिए पहले से ही एक नोटिफिकेशन देता है। जब भी हम किसी नए सिस्टम या मोबाइल पर अपनी G-mail  ID को लॉग इन करते हैं तो हमारे मोबाइल नम्बर पर एक मैसेज आता है कि “क्या आपने इस सिस्टम पर लॉग इन किया है” पर कुछ लोग इन मैजेज को अनदेखा कर देते हैं, जिसके कारण उनकी प्राइवेसी और यहां तक की अकाउंट इनफार्मेशन भी लीक हो जाती है।

जरुर पढ़ें:  दुनिया की सबसे महंगी साइकिल, फिचर और कीमत जानकर दिमाग घूम जाएगा

इसलिए हमें किसी भी नॉर्मल इन्फार्मेशन मागने वाली वेबसाइट्स को अपने पर्सनल डिटेल्स नहीं देनी चाहिए और अगर गूगल जैसी विश्वसनीय साइट्स अगर आपसे कोई मैसेज भेजे तो उसे नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए। नहीं तो आपको भविष्य में कई तरह की समस्याएं झेलनी पड़ सकती हैं, जैसे- अनवांटेड मैसेज, अकाउंट डिटेल्स का लीक होना, अनजाने कॉल्स या फेक कॉल्स का आना। कभी भी अपनी पर्सनल डिटेल्स जैसे आपका अकाउंट नम्बर, बैंक का नाम किसी से शेयर न करें। ताकि आप सुरक्षित रह सकें।

Loading...