बरसात के दिन आ गए हैं। हर जगह जमकर बारिश हो रही है। ऐसे में सभी के हाथो में छाते नजर आ रहे हैं। छाता बारिश से तो बचा लेता है पर, इसको पकड़े रखने का काम थोड़ा मुश्किल हो जाता है। छाते को पकड़ने में एक हाथ बिजी हो जाता है, इसलिए एक हाथ से कोई काम करना भी मुश्किल हो जाता है। लेकिन अब ये समस्या एक जापानी कंपनी ने दूर कर दी है। जी हां जापानी कंपनी ने एक ऐसे छाते का अविष्कार किया है, जिसे आपको हाथ से पकड़ने की ज़रूरत नहीं होगी। ये बिना पकड़े ही आपके सिर के ऊपर आपकी सुरक्षा करता रहेगा।

जरुर पढ़ें:  हीरे के शौकिन हैं ? 900 रुपए में मिल रहा है असली हीरा

इस अनोखी उड़ने वाली छतरी को तोचिगी प्रिफेक्चर के ओयामा स्थित पावर सर्विस कॉपरेशन की ओर से विकसित किया गया है। ये कंपनी दूसरी सेवाओं के साथ-साथ दूरसंचार प्रणाली भी विकसित करती है। फिलहाल ये जापानी कंपनी इनडोर टेस्ट फ्लाइट के साथ ही इस मॉडल को और बेहतर बनाने पर काम कर रही है। इस कंपनी का ये गैजेट बनाने के पीछे मकसद 2020 में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक और पेरालिम्पिक्स गेम्स हैं, जिसमें इसका इस्तेमाल किया जाएगा। कंपनी के मालिक 40 साल के केनजी सुजुकी ने इस प्रोजेक्ट को 3 साल पहले ही तय कर लिया था। केनजी सुजुकी को ये आईडिया तब आया जब उन्होंने ये सोचा, कि अगर इंसान के दोनों हाथ किसी न किसी काम की वजह से बिजी हो, तो वो कैसे छतरी पकड़ सकता है? इसी मुश्किल को दूर करने के लिए उन्होंने इस प्रोजेक्ट पर काम करने के बारे में सोचा था।

जरुर पढ़ें:  ट्वीटर के बारे में ये अमेजिंग बातें आपको यकीनन पता नहीं होगी
Asahi Power Service Co. President Kenji Suzuki

सिविल एयरोनॉटिक्स के तहत ड्रोन के लिए एक लॉ है। इस लॉ के तहत छोटे कस्बो या सार्वजनिक जगहों पर ड्रोन लोगों और इमारतों से कम से कम 30 मीटर की दूरी पर रहना चाहिए। इस बात को नज़र में रखते हुए कंपनी शुरुआत में इसका इस्तेमाल प्राइवेट प्लेस में करेगी। फिलहाल कंपनी ने इस तकनीक का एक डेमो सबके सामने रखा है। ड्रोन की हवा से ये छतरी अपनी गति बदलेगी। इस छतरी में ऐसा सिस्टम लगाया जाएगा जिससे छतरी इस्तेमाल करने वाले को पहचान सकेगी और उसके सर के ऊपर ही चलती रहेगी। साथ ही ड्रोन की मदद से ये छतरी स्थिर भी रहेगी।