कड़ाके की ठंड, बदन पर कोट, गले में बो और हाथों में ऑफिस के बैग. लेकिन ये क्या, नीचे से पैंट ही गायब? आब आप सोच रहे होंगे कि ये क्या हुआ, क्या ये लोग अपनी पैंट्स पहनना भूल गए हैं? ये ऐसे ऑफिस क्यों जा रहे है? तो चलिए आपको बताएं कि ये क्या हो रहा है इससे पहले एख नज़र इन तस्वीरों पर डालिए.

ये तस्वीरें बर्लिन, लंदन, आस्ट्रेलिया, प्राग और जर्मनी के म्यूनिख सहित 60 से ज्यादा शहरों की हैं. आपको बता दें कि ये लोग अपनी पैंट्स पहनना भूले नहीं हैं बल्कि ये एक फेस्टिवल है. जिस्का नाम है ‘नो पैंट्स डे’. इस फेस्टिवल को सैलिब्रेट करते लड़के-लड़कियां 3 डिग्री सेल्सियस से भी कम तापमान में बिना पैंट पहने सड़कों और ट्रेनों में सफर करते हैं.

जरुर पढ़ें:  ATM कार्ड फ्रॉड से अपने आपको कैसे बचाएं?

सामने आईं तस्वीरों में अलग-अलग शहरों के युवा बिना किसी लाज-शर्म के पैंट्स उतार के चलते हुए नजर आ रहे हैं. इनमें बड़ी संख्या में लड़कियां की भी शामिल है. वहीं कई लोग बेहद अजीबो-गरीब अंडरवियर्स पहने नजर आ रहे हैं.

बता दें, ‘नो पैंट्स डे’ हर साल मनाया जाता है. इसमें लोग हर साल जनवरी की कड़कड़ाती ठंड में ढेर सारे कपड़े पहन कर सबवे यानी मेट्रो की सवारी करते हैं, बस पैंट नहीं पहनते. 16 साल पहले इसकी शुरुआत एक प्रैंक के तौर पर न्यूयॉर्क में हुई थी. सात लोगों ने बिना पैंट के सड़कों पर निकलकर लोगों को चौंका दिया था. जिनका मुख्य उद्देश्य सिर्फ लोगों को हंसाना था. तभी से इसे एक फेस्टिवल की तरह लगभग 60 से भी ज्यादा शहरों में मनाया जाता है. लोगों का कहना हैं कि जनवरी एक डिप्रेसिंग और बोर करने वाला महीना है. इसलिए मेट्रों में यात्रा करते वक्त पैंट्स उतारकर लोगों को हंसाने से अच्छा और क्या हो सकता है.

जरुर पढ़ें:  श्री कृष्ण की द्वारिका ही नहीं, दुनिया के ये 7 शहर भी पानी की गहराई में मिले

इस दौरान इसमें भाग ले रहे लोगों को कुछ रूल्स भी फॉलो करने होते हैं. जैसे ट्रेन में ट्रैवलिंग के दौरान वैसे ही बिहेव करें, जैसा आम दिनों में करते हैं. लोग चाहें तो दो अंडगारमेंट्स भी पहन सकते हैं. लेकिन ऐसे अंडरवियर पहनने की इजाज़त नहीं है जिससे लोगों को आपत्ति हो. कई लोग जो नो पैंट्स डे से बिल्कुल अनजान होते हैं, अचानक लोगों को बिना पैंट के देखकर हैरान रह जाते हैं और उनकी हंसी छूट जाती है.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here