लड़कियों के छोटे कपड़े जितने सेक्सी और हॉट लगते हैं, गर्मी में वे उतने ही काम आते हैं। छोटे कपड़ों में गर्मी कम लगती है और बॉडी को हवा मिलती है। पर अफसोस इस बता का है कि इसका फायदा सिर्फ लड़कियों को ही मिल पाता है। वैसे तो बात बराबरी की होती है, लड़के जो करते हैं, पहनते हैं, उन्हें अब लड़कियां करने और पहनने लगी हैं। लेकिन लड़के ऐसा नहीं कर पाते इसलिए अब इस इस बात का विरोध शुरू हो गया है। और विरोध में लड़कों ने स्कर्ट पहननी शुरू कर दी है। 

जीहां, लड़कों का कहना है, कि गर्मी में उन्हें भी ऐसे ही कपडे पहनने चाहिए, जिसमें उन्हें हवा लग सके और गर्मी का अनुभव कम हो। वैसे स्कूल के साथ ऑफिस में भी लड़कियां स्कर्ट पहनती हैं और लड़कों को पैंट पहननी पड़ती है। जिसकी वजह से लड़कों को ज़्यादा गर्मी सहनी पड़ती है। इस साल की गर्मी इतनी पड़ रही है, कि गर्मी की चपेट में सिर्फ इंंडिया ही नहीं तो वे मुल्क भी आ गए हैं, जिन्हें सुहाने और ठंडे मौसम के लिए जाना जाता है।

जरुर पढ़ें:  शिक्षक दिवस के बारे में ये जानकारी शायद आपको न हो...

यूरोप और अमेरिका में इस बार इतनी भीषण गर्मी पड़ी, कि लोग गर्मी से बेहाल हो रहे हैं। कई राज़्यों का तापमान काफी ज़्यादा बढ़ गया है। इतनी गर्मी 2003 के बाद पहली बार पड़ रही है। गर्मी का आलम ये है, कि काम करने वाले लोग और बस ड्राइवर स्कर्ट पहनकर काम करने लगे हैं।

स्कर्ट पहने सभी बस ड्राइवर

इन विदेशी कर्मचारियों की माने तो, उन्हें ऑफिस में शॉर्ट पहनने के लिए मना किया जाता है और लड़कियों को घुटने तक स्कर्ट पहनने दी जाती है, जलन से आगबबूले लड़के विरोध पर उतर आए हैं और काम पर स्कर्ट पहनकर जाने लगे हैं। इतना ही नहीं, ब्रिटेन के स्कूलों में भी बच्चों की यूनिफार्म में शॉर्ट नहीं पहनने दिए जा रहे हैं और ब्लेजर तक उतारने के लिए मना किया जा रहा है। इसी के विरोध में पैरेंट्स अपने लड़कों को स्कर्ट पहनाकर स्कूल भेज रहे हैं। ब्रिटेन में पहले इतनी गर्मी कभी नहीं पड़ी, जितनी इस जून के महीने में पड़ रही है।

Loading...