रिलायंस के बारे में हम सब अच्छी तरह से जानते हैं, रिलायंस के जिओ ने तो पूरी भारतीय नेटवर्क इंडस्ट्री में कमाल ही करके रख दिया है, सिर्फ एक साल के अन्दर ही रिलायंस ने अपना बाजार बना लिया है| एक खबर के मुताबिक रिलायंस ने इस तिमाही के दौरान 504 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है| इस मुनाफे के चलते सभी हैरान हैं कि कोई कंपनी इतने कम समय में इतना ज्यादा मुनाफा कैसे कमा सकती है|

JIO की इंडस्ट्री में ऐसी सफलता के पीछे मोदी सरकार के एक फैसले का बहुत बड़ा हाथ है। दरअसल साल 2017 में भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने इंटरकनेक्शन यूसेज चार्ज यानी IUC में 57% की कटौती की थी। IUC चार्ज में हुई कटौती से चलते तीसरी तिमाही में जियो ने 1058 करोड़ रुपए की बचत की|

जरुर पढ़ें:  मुकेश अंबानी का नया कारनामा, चीनी कंपनी के मालिक को पछाड़ा

जियो का ऑपरेटिंग प्रॉफिट 90 फीसदी बढ़ गया और इसी के चलते जियो ने तीसरी तिमाही में 504 करोड़ का मुनाफा कमाया। सरकार के इस फैसले की वजह से अब तक घाटे में चल रही कंपनी मुनाफे में आ गई। इस फैसले से जियो को अब तक का सबसे ज्यादा मुनाफा हुआ है।

Demo Pic

ट्राई के इस फैसले से जियो ने अपने 1058 करोड़ रुपए बचाकर लाभ हासिल किया। आइडिया, एयरटेल, वोडाफोन जैसी कंपनियों को इसकी वजह से नुकसान हुआ। ऐसा इसलिए क्योंकि ट्राई के फैसले के मुताबिक जियो को अक्टूबर तक आईयूसी चार्ज के तौर पर मोटी रकम चुकानी पड़ रही थी, जिससे दूसरी कंपनियों को लाभ हो रहा था, लेकिन आईयूसी चार्ज घटने से दूसरी कंपनियों को मिलने वाला ये चार्ज कम हो गया और जियो की बचत हुई।

जरुर पढ़ें:  इस मंदिर में फूल नहीं चप्पल चढ़ाते हैं, मुसलमान है मुख्य पुजारी
Demo Pic

रिलायंस की इस सफलता को देख कर जहाँ एक तरफ सारी बड़ी बड़ी कम्पनियां हैरान हैं, वहीं दूसरी ओर इतने बड़े मुनाफे को देखकर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट भी सकते में आ गया है| मोदी सरकार के फैसले से रिलायंस को 504  करोड़ का फायदा सच में बात नहीं पाच रही|

कुछ दिनों सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हुई थी जिसमें यह कहा गया था कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दामाद रिलाइंस में एक अच्छे पद पर हैं|इन ख़बरों में कितनी सच्चाई है ये तो वक्त ही बताएगा पर यह बात सच है कि मोदी सरकार के एक फैसले की वजह से अम्बानी परिवार को सिर्फ तीन महीने 504  करोड़ का लाभ हुआ है|