मौसम की पहली बारिश दस्तक दे चुकी है. और चिलचिलाती गर्मी से परेशान हजारों-लाखों लोंगों को सुकून की सांस मिली है. तो वहीं सोशल मीडिया पर भी मानसून की अनोखी झलक देखने को मिल रही है. लेकिन इस मानसून में बरसात पानी की नहीं बल्कि खबरों की हो रही है. जी हां जहां एक ओर साल के पहले मानसून की दस्तक से माहोल में नर्मी आई है तो वहीं सोशल मीडिया पर एक खबर जोरों से वायरल होने लगी है जिसे सुनकर हर कोई हैरान है. और ये खबर है सरदार पटेल की मशहूर मूर्ति,‘स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी’ के बारे में.

जी हां, कहा जा रहा है कि गुजरात में हो रही लगातार बारिश की वजह से ‘स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी’ को रेनकोट पहनाया गया है. यूजर्स इस तस्वीर को शेयर कर इस बात का दावा कर रहे हैं. वहीं कई व्यूर्स को इस खबर पर शक भी हुआ. तो उन्होने वीके न्यूज से खबर की पड़ताल करने की मांग की. जिसके बाद वीके न्यूज ने हमेशा की तरह अपनी पड़ताल शुरू की.

तो चलिए पहले आपको बताते हैं कि पूरा मामला है क्या. दरअसल गुजरात के केवड़िया में बनी दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति स्टेच्यू ऑफ यूनिटी में से पहली ही बारिश में पानी रिसने लगा है. सरदार पटेल की ये मूर्ती करीब 182 मीटर ऊंची है. और इसे तैयार करने में 3000 करोड़ की लागत आई थी. इसके भीतर लिफ्ट लगी है जिससे टूरिस्ट मूर्ति के बराबर ऊपर जाकर नज़ारा लेते हैं. मूर्ति के सीने वाली जगह पर ‘व्यूइंग डेक’ है.. अब कहा जा रहा है कि गुजरात में लगातार हो रही बारिश की वजह से  मूर्ति के अंदर पानी इतना ज़्यादा आ रहा है कि टूरिस्ट डेक पर खड़े तक नहीं हो पा रहे.

जरुर पढ़ें:  वायरल पड़ताल : सीएम योगी ने आमिर खान को लगाया कॉल कहा आज से तुम्हारा नाम अमर खन्ना!

इसी के चलते ये चर्चाएं जोरों पर हैं कि मूर्ति को रेन कोट पहनाया गया है. सच्चाई क्या है ये हम आपको बताएंगे. लेकिन इससे पहले एक बड़ा सवाल ये भी है. अगर मूर्ति से वाकई पानी रिस रहा है तो ये प्रशासन पर एक बड़ा सवाल है. क्योंकि हजारों करोड़ की लागत से बनी इस प्रतिमा से पानी का रिसना प्रशासन की खराब व्यवस्था को दर्शाता है. तो चलिए दोस्तों

आपको बताते हैं वीके न्यूज की पड़ताल ता नतीजा….

सबसे पहले तो आप ये तस्वीरें देख लीजिए जिन्हें शेयर कर लोग मूर्ति के रेनकोट पहनने का दावा कर रहे हैं.

कई यूजर्स ये सवाल कर रहे हैं कि आखिर सरदार पटेल को रेन कोट क्यों पहनाया गया है, तो वही. कुछ का कहना है मूर्ती पर लगाया हुआ पैसा बर्वाद हो गया. तो वही कुछ यूजर्स तो मूर्ति की क्वैलिटी पर ही सवाल उठा रहे हैं.

अब पहला सवाल तो ये कि क्या वाकई मूर्ति में से पानी रिस रहा है. तो आपको बता दें कि इसकी पड़ताल के लिए वीके न्यूज की टीम ने प्रशासन को फोन किया और इसकी वायरल हो रहे इस दावे का सच पूछा, इसपर प्रशासन ने इस बात की पुष्टी की कि मूर्ति में ज्यादा बारिश के कारण पानी भर गया है. लेकिन इसका कारण प्रशासन की खराब व्यवस्था नहीं बल्कि मूर्ती की बनावट को बताया.

जरुर पढ़ें:  मोदी के साथ चाय पीनी है तो ये काम करिए!

वहीं जब प्रशासन से मूर्ति के रेनकोट पहनने पर सवाल किया तो उन्होने इस दावे को एक साफ इंकार कर दिया. उनका कहना है कि मूर्ति को किसी तरह का कोई रेनकोट नहीं पहनाया गया. लेकिन फिर ये बात आई कहां से. तो चलिए ये भी बता दें.

दरअसल इस खबर के वायरल होने का कारण है एक अखबार. दिव्य भास्कर में 29 जून को ये ख़बर छपी कि बारिश का बहुत सा पानी स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी के भीतर गया है और छतें भी टपक रही हैं. साथ ही सरदार पटेल की रेनकोट पहने तस्वीर भी छापी. जब्कि इस तस्वीर में कोई सच्चाइ नहीं है. क्योंकि ये सार खेल ग्राफिक्स का है. यानि काल्पनिक फोटो. अखबार में छपी तस्वीर एक तरह का वयंग्य थी, कि क्या अब स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी को रेनकोट पहनाया जाएगा’.

जरुर पढ़ें:  पीएम की बैठक में जाने से ममता, केजरीवाल, अखिलेश समेत इन नेताओं का इंकार..

वीके न्यूज की पड़ताल में मूर्ति की रेनकोट पहनने वाली खबर में कोई सच्चाई नहीं पाई गई. यानी ये खबर फेक है.

अगर आपके पास भी ऐसी कोई तस्वीर, वीडियों या खबर है जिसकी सच्चाई पर आपको शक हो तो उसे हमारे साथ शेयर कीजिए. वीके न्यूज की टीम उसकी पड़ताल कर हर सच्चाई आप तक पहुंचाएगी. वीके न्यूज फाइट अगेंस्ट फेक न्यूज जारी रहेगा, जुड़े रहिए हमारे साथ और देखते रहिए वीके न्यूज.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here