क्या आपको पता है कि मध्य प्रदेश के नए सीएम बने कमलनाथ राजीव गांधी के ड्राइवर थे. और इसीलिए उन्हें सीएम पद की कुर्सी मिली है. ये सब दावे इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल होने वाली एक तस्वीर कर रही है. तस्वीर को सोशल मीडीया पर पोस्ट करते समय एक मैसेज में लिखा जा रहा है.

जिसमें लिखा है कि  ‘’राजीव जी का ड्राइवर कमलनाथ आज एमपी का मुख्यमंत्री बना है. आज दो अरब का मालिक है. और कितने अच्छे दिन चाहिए भाइयों. बड़ी मुश्किल से फोटो मिला है.’’ तस्वीर में आप देख सकते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हैं और उनके साथ गाड़ी की ड्राइविंग सीट पर कमलनाथ बैठे हैं. लेकिन इस फोटो की सच्चाई क्या हैं ये आपको बाद में बताएंगे. मगर सबसे पहले ये जान लिजिए कि कमलनाथ हैं कौन,और गांधी परिवार से इनका क्या कन्केशन है?

जरुर पढ़ें:  सुब्रमण्यम स्वामी का प्रियंका गांधी पर वार, कहां- प्रियंका गांधी को है बीमारी, लोगों की पिटाई करती हैं

दरअसल कमलनाथ का जन्म आजदी से कुछ महीने पहले उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में हुआ था. और संजय गांधी के ये स्कूली दोस्त थे. और इन दोनों की दोस्ती देहरादून के दून स्कूल से शुरू हुई.  कोलकाता के जेवियर कॉलेज से इन्होंने बैचलर की डिग्री ली.

और अब आप ये तो समझ ही गए होगें कि जिसकी पढ़ाई अच्छेखासे स्कूल से हुई हो तो फिर वो गरीब परिवार से हो नहीं सकता. इसलिए इससे साफ है कि कमलनाथ का जन्म ही संपन्न परिवार में हुआ है. साथ आपको ये भी बता दें कि संजय गांधी की मौत के बाद भी इनके संबन्ध गांधी परिवार से खत्म नहीं हुए. और संजय गांधी की दोस्ती ने उन्हें गांधी परिवार के बेहद करीब ला दिया जिसके बाद उनकी दोस्ती राजीव गांधी से हुई. यही नहीं बल्कि खुद इंदिरा गांधी ने 13 दिसंबर 1979 को छिंदवाड़ा की जनता के सामने इन्हें अपना तीसरा बेटा बता दिया था.

जरुर पढ़ें:  मध्य प्रदेश में सीटों के बंटवारे को लेकर राहुल गांधी के सामने ही लड़ गए कांग्रेस के दो बड़े नेता.

अब आपको बताते हैं कि तस्वीर की असल सच्चाई क्या है. दरअसल इस तस्वीर को खुद कमलनाथ ने 20 अगस्त 2018 को राजीव गांधी के जन्मदिन पर अपने ट्वीटर हैंडल पर पोस्ट किया था.

और साथ ही एक कैप्शन भी दिया था. जिसमें लिखा था कि आईटी और संचार क्रांति के जनक, पंचायती राज के प्रणेता, भारतरत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व.राजीव गांधी जी की जयंती पर उन्हें शत् शत् नमन.

साथ ही आपको बता दें कि जहां तक ड्राइवर होने का सवाल है तो वो ये है कि कमलनाथ जब गांधी परिवार के करीबी बन गए तो वे किसी भी दौरे पर राजीव गांधी के साथ खुद ड्राइवर बनकर साथ निकल पड़ते थे. इसलिए हमारी पड़ताल में कमलनाथ को राजीव गांधी का ड्राइवर बताने वाले दावे एकदम फर्जी साबित हुए हैं.

जरुर पढ़ें:  राहुल ने मां पीताम्बरा पीठ पर माथा टेका, इतनी सीटों पर राहुल की नजर

Loading...