लोकसभा चुनाव में बीजेपी को बंपर वोंटिग से जीत मिली. और देश ने अपने पसंदीदा प्रधानमंत्री को चुनकर दुबारा सियासत का तखतोताज उनके नाम कर दिया. अब लोगों को उनका काम पंसद आया या चुनावी रैलियों में किए वादे य़ाद आए. ये तो लोग ही जाने. खेर. प्रधानमंत्री मोदी और पार्टी ने जीत हासिल करने के लिए मेहनत तो बहुत की एक दिन में चार-चार रैलिया करने वाले मोदी की हौसला बुंलद थे. जहां  उन्होंने विपक्ष पर निशाना सांधा तो अपनी कई योजनाओं का बखान भी क्या. जनता से कई वादे भी किए. शायद उसी का इनाम जनता ने चुनावी नतीजों में दिया. लेकिन क्या प्रधानमंत्री  मोदी ने अपनी जीत की खुशी में एक बड़ा एलान कर दिया हैं. जी हां सोशल मीडिया पर एक मेसैज धड़ल्ले से वायल हो रहा है. कि नरेंद्र मोदी ने दोबारा देश का प्रधानमंत्री बनने की ख़ुशी में ‘मेक इन इंडिया’ के तहत दो करोड़ युवाओं को मुफ़्त लैपटॉप देने का ऐलान किया है. ट्विटर से लेकर फेसबुक तक इस मेजेस को तेजी से फेलाया जा रहा है.  क्या सच में प्रधानमंत्री मोदी युवाओं ‘मेक इन इंडिया’ तहत मुफ्त  में लैपटॉप बांटने का ऐलान किया है.  ऐसे कई सवाल है. इसलिए वीके न्यूज की टीम ने इस खबर की पड़ताल शुरु की तो हकीकत कुछ औऱ ही निकली. पहले हम आपको तफतीश में बताते कि आखिर एक लिंक को शेयर करते हुए क्या दावा किया जा रहा है.

जरुर पढ़ें:  कपिल शर्मा ने नेशनल टेलीविज़न पर क्यों मांगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफ़ी,जाने वजह

सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल किया जा रहा है जिसमें लिखा है “नरेंद्र मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने की खुशी में मेक इन इंडिया के तहत 2 करोड़ युवाओं को मुफ्त लैपटॉप देने का ऐलान किया है, अभी तक 30 लाख युवा सफलतापूर्वक आवेदन कर चुके हैं. अब आपकी बारी है अंतिम तिथि से पहले अपना आवेदन जल्द से जल्द सबमिट करें”

अब इस मेसेज को ट्वीटर से लेकर फेसबुक और यंहा तक की वाट्सएप पर भी इस लिंक को तेजी से वायरल किया जा रहा हॉ. लेकिन अपनी पड़ताल में हमने पहले सबसे मैसेज में दिए लिंक की जांच की.  इस लिंक पर क्लिक करते ही हमारे सामने # यूआरएल से एक पेज खुला. इस पेज पर प्रधानमंत्री की तस्वीर के साथ मेक इन इंडिया का लोगो लगा है. इस लोगो के ऊपर लिखा है ‘ 2 करोड़ों युवाओं को मुफ्त लैपटॉप देने की योजना’

इसके नीचे आपसे एक फॉर्म भरने को कहा जाता है जहाँ आपसे आपका नाम, आपका मोबाइल नंबर, आपकी उम्र और आपके राज्य की जानकारी मांगी जाती है.

इस फॉर्म को भरने पर अगले ही पेज पर आपसे सवाल भी पूछा जाते है “ जिसमें पहला सवाल होता है. क्या आपके पास पहले से ही लैपटॉप है?”. फिर दूसरा सवाल लिखा होता है क्या आप प्रधानमंत्री की इस योजना के बारे में अपने दोस्तों को बताएंगे?. इन दोनों के उत्तर में आपको हां या ना का ऑप्शन दें रखा है.

जरुर पढ़ें:  वायरल पड़ताल : राहुल की रैली में 25 लाख लोगों की भीड़, इंदिरा गांधी की रैली का तोड़ा रिकॉर्ड

लेकिन रुकिए जनाब अभी आपका फॉर्म पूरा नहीं हुआ. जब आप इन तमाम सवालों के जवाब दें देंगे तो आपके सामने नया पेज खुलकर आएंगा.

जिसमें लिखा है .प्रिय आवेदक जी! हमें आपका आवेदन सफलतापूर्वक प्राप्त हो गया है”। इसके नीचे लिखा है, ‘प्रधानमंत्री के इस योजना और Make in India के प्रचार के लिए आपको 10 Group में अथवा दोस्तों को WhatsApp पर शेयर करना पड़ेगा”

वायरल मैसेज में लिखी वेबसाइट में ’अबाउट अस’ सेक्शन भी है. इसमें स्पष्ट लिखा है कि यह वेबसाइट भारत सरकार से सम्बंधित नहीं है.

तो ये हैं वायरल मेसैज का दावा. लेकिन हमने अपनी पड़ताल में सबसे पहले मेक इन इंडिया की वेबसाइट पर खोज की. जहां ऐसी कोई जानकारी हमें नहीं मिली. और अस्ली वेबसाइड की तरफ से ये दावा किया गया कि मेक इन इंडिया के तहत 2 करोड़ लैपटॉप बांटे जाने वाली खबर गलत है. इस पूरे सिलसिले पर सूचना सुरक्षा शिक्षा और जागरूकता के एसोसिएट निदेशक ए एस मूर्ति ने एक इंटव्यू में बताया कि. ये सभी लिंक कुछ समय के लिए काम करते हैं और डाटा एकत्र करने के बाद, वे स्थायी रूप से बंद हो जाते हैं। “उपयोगकर्ताओं को फंसने से बचने के लिए ऐसी योजनाओं के लिए सरकारी वेबसाइटों या संबंधित मंत्रालयों या विभागों की वेबसाइटों के साथ क्रॉस चेक करना चाहिए तभी अपना डाटा वहां शेयर करना चाहिए. तो देखा आपने किस तरीके से भम्र फैला कर लोगों से उनका पर्सनल डाटा मांगा जा रहा है. और बहुत से लोग बिना किसी संकोच के अपना नाम या नंबर देने का कोई बढ़ी बात नहीं समझते. लेकिन सोशल मीडिया पर आज रोज ऐसी लाखों वेबसाइट बनती है. जो आपसे बस बेसिक चीजें फील कराती है. औऱ फिर आपके डाटा का गलत तरीके से इस्तेमाल किया जाता है. बहरहल वीके न्यूज की पड़ताल में प्रधानमंत्री द्वारा युवाओं को लेपटॉप बाटंने वाली खबर फर्जी पाई गई.

जरुर पढ़ें:  पीली साड़ी के बाद अब नीली ड्रेस वाली महिला की सोशल मीडिया पर मची धूम..

लेकिन  फेक ख़बरों के खिलाफ वीके न्यूज़ की मुहिम फाइट अगेंस्ट फेक न्यूज़ जारी रहेगी. अगर आपको भी किसी खबर, वीडियो, तस्वीर की सच्चाई पर संदेह हो तो उसे हमें भेजें. हम उसकी पड़ताल करेंगे और उसकी सच्चाई आपतक पहुंचाएंगे.

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here