भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट की सीरीज 2-1 से जीत ली है. इसके साथ ही वह ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर टेस्ट सीरीज अपने नाम करने वाली पहली एशियाई टीम बनी और विराट कोहली पहले एशियाई कप्तान बने. बता दें, 1947-48 से ऑस्ट्रेलिया में अब तक एशिया के 28 कप्तानों ने अपनी टीम की अगुआई की है. इस दौरान एशियाई टीमों ने वहां 98 टेस्ट खेले, लेकिन सिर्फ आठ कप्तान ही अपने टीम को जिता पाए. इनमें से सबसे ज्यादा 5 कप्तान भारत के हैं.

एशियाई टीम के कप्तान के तौर पर भारत के बिशन सिंह बेदी, विराट कोहली और पाकिस्तान के मुश्ताक मोहम्मद ने ऑस्ट्रेलिया में सबसे ज्यादा दो-दो टेस्ट जीते. सुनील गावस्कर, सौरव गांगुली और अनिल कुंबले की अगुआई में भारत को ऑस्ट्रेलिया में 1-1 टेस्ट में जीत मिली.

जरुर पढ़ें:  IPL Spot fixing Case: श्रीसंत को कोर्ट से मिली बड़ी राहत,स्पॉट फिक्सिंग में लाइफ बैन के मामले पर BCCI दोबारा करेगा विचार..

अन्य एशियाई देशों की बात करें तो पाकिस्तान के तीन कप्तान वहां टेस्ट जीतने में सफल रहे. मुश्ताक के अलावा जावेद मियादाद और वसीम अकरम को एक-एक सफलता हाथ लगी. श्रीलंका और बांग्लादेश का कोई भी कप्तान वहां सफल नहीं हो सका.

बता दें, ऑस्ट्रेलिया में भारतीय टीम की अगुआई सबसे पहले लाला अमरनाथ ने की थी. उनके बाद चंदू बोर्डे, मंसूर अली खान पटौदी, बिशन सिंह बेदी, सुनील गावस्कर, कपिल देव, मोहम्मद अजहरुद्दीन, सचिन तेंडुलकर, सौरव गांगुली, अनिल कुंबले, महेंद्र सिंह धोनी, वीरेंद्र सहवाग और विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय टीम की कप्तानी की.
आपको ये जान कर हैरानी होगी कि महेंद्र सिंह धोनी इकलौते भारतीय हैं, जिन्होंने बतौर कप्तान दो बार ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया, लेकिन एक भी मैच नहीं जीत पाए. 2014 की सीरीज में उन्होंने संन्यास की घोषणा की थी, जिसके बाद कोहली को टीम की कमान मिली. 2011-12 की सीरीज में धोनी की जगह एक मैच में सहवाग ने भी कप्तानी की थी.

जरुर पढ़ें:  पाकिस्तानी टीम को बैन करने की मांग, कोर्ट में दायर की याचिका..

बता दें, पिछले 71 साल में ऑस्ट्रेलिया में एशियाई टीमों ने अब तक 31 सीरीज खेलीं हैं, लेकिन सिर्फ भारत ही सीरीज जीत पाया. उसने 12वीं सीरीज में यह सफलता हासिल की. वहीं, पाकिस्तान ने 12, श्रीलंका ने 6 और बांग्लादेश ने एक सीरीज खेली, लेकिन कोई सीरीज जीत नहीं पाए.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here