एमसी मैरी कोम हमारे देश का गौरव है, पूरी दुनिया में शायद ही कोई ऐसा होगा जो भारत की मैरी कोम को न जानता हो. बड़े-बड़े नामी बॉक्सर भी मैरी कोम से टकराने में डरते है. भारत के मणिपुर के एक छोटे से गांव के किसान की बेटी ने अपनी मेहनत और बॉक्सिंग के प्रति जुनून से अपना नाम बॉक्सिंग दुनिया में अमर कर दिया है.

6 बार वर्ल्ड चैंपियन बन चुकी मैरी कोम जैसा न कोई हैं और कभी हो पाएगा. और एक बार फिर मैरी कोम देश के लिए गौरव बन गई हैं. हाल ही में हुए प्रेसिडेंट कप में 51 किलोग्राम वेट कैटगरी में गोल्ड मेडल हासिल किया हैं.

जरुर पढ़ें:  मोदी के साथ चाय पीनी है तो ये काम करिए!

रविवार को इंडोनेशिया के लाबुआन बाजो में हुए फाइनल मुकाबले में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया की एप्रिल फ्रैंक्स को 5-0 से हराया. इसी साल मई में हुए इंडिया ओपन में भी मैरी कोम ने गोल्ड मेडल जीता था.

आपको बता दें कि मैरी कोम ने प्रसिडेंट कप में हिस्सा इसलिए लिए जिससे मैरी कोम खुद को ओलंपिक के लिए तैयार कर सकें. मैरी कोम का इस समय टारगेट ओलपिंक गेम्स में भारत के लिए गोल्ड मेडल लाने पर हैं.  बता दें कि, इस साल कि वुमन्स वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियन 7 सिंतबर से 21 सिंतबर तक रूस में होने जा रही हैं.

मैरी कोम की नज़र 2020 के टोक्यो ओलंपिक पर हैं जिसके लिए मैरी जी तोड़ मेहनत भी कर रही हैं. मैरी ने प्रेसिडेंट कप में मेडल जीतने के बाद ट्वीट कर अपनी खुशी जाहिर की और अपने गोल्ड मेडेल को देश को समर्पित किया.

आपको बता दें कि, एमसी मैरी कोम के जीवन पर एक फिल्म भी बन चुकी हैं जिसमें दिखाया गया है कि मैरी ने किस तरह बॉक्सर बनने के लिए कितना संघर्ष किया और हर हालात में डट कर खड़ी रही. मैरी कोम ने किस भी मुश्किल में कभी हार नहीं मानी. अपने बॉकिसिंग कैरियर के दौरान उन्होंने शादी भी और तीन बच्चो की मां भी बनी. इस फिल्म में मैरी कोम का रोल प्रियंका चोपड़ा ने निभाया था.

जरुर पढ़ें:  इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायर हुए युवराज सिंह, प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया फ्यूचर प्लान!
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here