आईपीएल में रिकॉर्ड बनाने वाले जोसेफ माँ के देहांत पर भी मैदान पर खेलने उतरे थे

आईपीएल 2019 के पहले लौ स्कोरिंग मुकाबले में मुंबई इंडियंस ने सनराइजर्स हैदराबाद को उन्हीं के घर में 40 रनों  से करारी शिकस्त दी . जिसमें कैरिबियन खिलाडियों ने अहम भूमिका निभाई . जीत के असली हक़दार कीरोन पोलार्ड और अल्ज़ारी जोसफ रहे जो की अपना आईपीएल का पहला मैच खेल रहे थे  पोलार्ड ने बल्लेबाजी में अपना दम दिखाते  हुए 26 गेंदों में नाबाद  46 रनों की पारी खेलकर टीम को सम्मान जनक स्कोर तक पहुँचाया जिसके बाद अल्ज़ारी जोसेफ ने आईपीएल 2019 की सबसे घातक बैटिंग लाइनअप को अपनी गेंदबाजी के आगे घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। . जिसमें उन्होंने मात्र 12 रनों  पर 6 विकेट लेकर आईपीएल इतिहास के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी करने वाले गेंदबाज भी बन गए हैं

अपनी इस बेहतरीन  गेंदबाजी के बाद अल्ज़ारी जोसेफ सुर्खियां बटोरते हुए रातों रात आईपीएल के स्टार बन गए हैं लेकिन इस बात को जान आपके मन में अल्ज़ारी जोसेफ के लिए और सम्मान बढ़ जाएगा जिसके वे हकदार हैं बात इसी साल 2 फरवरी 2019 की हैं वेस्ट इंडीज इंग्लैंड दौरे पर थी जिसमें अल्ज़ारी जोसेफ भी टीम का हिस्सा थे टेस्ट मैच का तीसरा दिन चल रहा था और सुबह एक भीड़ निराशाजनक अल्ज़ारी के लिए आई जिसे सुनकर धरती पैरों के नीचे से निकल गई  खबर थी उनके माता जी का निधन हो गया हैं अमूमन ऐसी खबर सुनकर कोई भी खिलाड़ी घर को रवाना हो जाता हैं हालाँकि अल्ज़ारी जोसेफ नहीं गए और देश के लिए बल्लेबाजी करते हुए 20 गेंदों में 7 रन बनाए जिसके बाद गेंदबाजी करते हुए 2 महत्वपूर्ण विकेट लिए।

जरुर पढ़ें:  साइना नेहवाल ने रचाई पी कश्‍यप से शादी, देखें नवविवाहित जोड़े की तस्वीरें

मैदान में सभी उनका सम्मान करते हुए तालियां बजा रहे थे और उनकी हिम्मत को सलाम करने लगे . मैदान से बाहर काफी दिग्गज खिलाडियों ने भी जोसेफ की हिम्मत की सराहना की . अल्ज़ारी जोसेफ ऐसे पहले खिलाडी नहीं है उनसे पहले भी कुछ खिलाडी देश के लिए ऐसा बलिदान कर चुकें हैं

क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर के साथ भी 1999 में कुछ ऐसा ही हुआ था जब वे विश्वकप के लिए इंग्लैंड रवाना थे  उनके पिता के निधन की खबर उनकी पत्नी अंजलि तेंदुलकर ने मुंबई से इंग्लैंड जाकर खुद सचिन को दी थी जिसके बाद सचिन अगली सुबह भारत वापिस लौट आये थे

जरुर पढ़ें:  कोहली ने बनाया आईपीएल के इतिहास का बेहद शर्मनाक रिकॉर्ड

उस समय सचिन को भारतीय बल्लेबाजी की रीढ़ की हड्डी माना  जाता था जिसके बाद सचिन की गैर मौजूदगी से  टीम को वर्ल्डकप में भारी झटका लगा और  भारत ने अपने अगले दोनों मैच गँवा दिए थे ऐसे में सेमिफाइनल से पहले होने वाले सुपर सिक्स  के लिए अगले 3 मैच भारत को जीतने जरुरी थे ऐसे में सचिन की  माँ ही थी जिन्होंने सचिन को वापस इंग्लैंड भेजने के लिए प्रेरित किया था इसके बाद टीम के हिट को ध्यान में रखते हुए सचिन इंग्लैंड लौटे और अगले ही मैच में 101 गेंद पर 140 रन बनाए  . जिससे टीम को जीत मिली

उनके बाद रन मशीन विराट कोहली भी कुछ ऐसा ही देख चुकें हैं  जिन्होंने के टीम के लिए बलिदान किया था विराट कोहली फ़िरोज़शाह कोटला में रणजी ट्रॉफी का मैच खेल रहे थे और  दिन का समय पूरा होने के बाद 40 रन पुरे कर चुके थे टीम पर हार मंडरा रही थी जिससे सबकी उम्मीद विराट कोहली पर टिकी थी दिन का खेल खत्म होने के बाद जब वे होटल के रूम में पहुंचे तो रात के तीन बजे  उन्हें अपने पिता के निधन की खबर मिली ..  खबर सुनते ही विराट अपने घर पहुँच गए थे लेकिन उनके सामने बड़ी चुनौती ये थी की वे घर वालो के साथ  रहें या टीम के लिए खेलने जाए ….तो ऐसे में उन्होंने खेलने जाने का फैसला किया और टीम को फॉलो ऑन से बचाते  हुए  90 रन बनाए

जरुर पढ़ें:  वर्ल्डकप इतिहास के रुला देने वाले पल जो आज भी सभी की यादों में ताजा हैं

जिस तरह इन खिलाड़ियों ने अपने देश के सम्मान को सबसे ऊपर रखकर ये देशभक्ति दिखाई हैं उसको लेकर अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर बताए

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here