वर्ल्डकप को क्रिकेट का महाकुम्भ भी कहा जाता हैं जिसको जीतने के लिए हर एक क्रिकेट खेलना वाल देश पूरी जी जान लगा देता हैं। …. वर्ल्डकप  में खेलना हर एक खिलाडी का सपना  होता हैं की वे अपने देश के लिए इस बड़े टूर्नामेंट में हिस्सा लेकर अपनी चमक बिखेर सके …. मगर हर कोई इतना किस्मत वाला नहीं होता की वे  इस  महाकुम्भ में हिस्सा ले सके  ….. हालाँकि पिछले कई  सालों में दुनिया ने कई ऐसे महान क्रिकेटर्स देखे जिहोने क्रिकेट के अंतर्राष्टीर्य स्टार पर अपनी छाप छोड़ी …. मगर उनमें से कुछ ऐसे भी दिग्गज खिलाडी हैं जिन्हें वर्ल्डकप में खेलना का मौका नहीं मिला …..तो आइए जानते है ऐसे क्रिकेटर्स के बारे में …..

तो सबसे पहले बात करते हैं  वीवीएस लक्ष्मण की जो की भारतीय टीम के हिस्सा रहे

जरुर पढ़ें:  Worldcup2019 : दूसरे अभ्यास मैच के लिए कार्डिफ पहुंची टीम इंडिया , देखें तस्वीरें !

वीवीएस लक्ष्मण भारतीय टीम के उन चुनिंदा खिलाडियों में से एक है जिन्होंने अपनी बल्लेबाजी के दम पर भारत को टेस्ट मैचों में कई बार जित दिलाई हैं वीवीएस लक्ष्मण ने भारत की ओर से कुल 134 टेस्ट मैच और 86 वनडे मैच खेले। … लेकिन लक्ष्मण एक बार भी वर्ल्डकप में जगह बनाने में नाकामयाब रहे

 

इनके बाद बात करते हैं एलेस्टर कुक की जो की इंग्लैंड  टीम के पूर्व कप्तान भी रहें हैं। ….

एलेस्टर कुक इंग्लैंड  टीम के लिए लेजेंड्री प्लेयर माने जाते हैं। … और इनकी पहचान एक समय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज के तौर पर होती थी. कुक इंग्लैंड के लिए टेस्ट मैचों में दस हजार रन बनाने वाला इकलौते खिलाडी हैं लेकिन कुक भी वर्ल्डकप में खेलने में कभी कामयाब नहीं हो पाए हैं

जरुर पढ़ें:  वर्ल्डकप से पहले धोनी ने किया रिटायरमेंट पर खुलासा !

 

और अब बात करते हैं क्रिस मार्टिन की जो की न्यूज़ीलैंड के तेज गेंदबाज रहे हैं  ……

क्रिस मार्टिन को न्यूज़ीलैंड की तरफ से खेलते हुए टेस्ट मैच में अच्छी सफलता मिली हैं ….. टेस्ट मैच फॉर्मेट में क्रिस मार्टिन ने 71 मैचों में 233 विकेट लिए। ….. हालाँकि क्रिस मार्टिन कभी भी वनडे फॉर्मेट में जगह नहीं बना सके जिसके चलते वे चयनकर्ताओं का दिल नहीं जीत सके और वर्ल्डकप के लिए उनका नाम भी कभी नहीं चुना गया ….

इनके बाद बात करते हैं मैथ्यू होगार्ड की जो इंग्लैंड के लिए तेज गेंदबाजी करते थे। ….

मैथ्यू होगार्ड अपनी तेज गति और सटीक गेंदबाजी के चलते अपनी टीम के अहम खिलाडियों में से एक थे। … टेस्ट में शानदार सफलता और वनडे में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद वह कभी वर्ल्ड कप मैच नहीं खेल सके. हालांकि 2011 विश्वकप में इनका नाम जरूर आया था लेकिन इन्हें एक भी बार मैदान पर मैच खेलने नहीं उतरा गया था …

जरुर पढ़ें:  वर्ल्डकप 2019 में Kookaburra Ball का कोहराम

और अब आखिरी में बात करते हैं जस्टिन लैंगर जो की ऑस्ट्रेलिया के खिलाडी रहे हैं

वर्ल्डकप में एक भी बार जगह न बनाने वाले जस्टिन लैंगर का नाम भी चौकां देने वाला हैं 1998 से लेकर 2007 तक जस्टिन अपनी टीम के लिए लगातार बेहतरीन प्रदर्शन करते रहें हैं हालांकि फिर भी उन्हें वर्ल्डकप खेलने का मौका नहीं मिला इस समय जस्टिन ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच हैं

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here