विश्व क्रिकेट में कई ऐसे पुरुष बल्लेबाज और गेंदबाज हैं, जिनके नाम कई रिकॉर्ड  दर्ज हैं। क्रिकेट का एक और फॉर्मेट भी है, जिसमें महिलाएं इस क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रही हैं। भारतीय महिला क्रिकेट टीम का एक ऐसा ही नाम है झूलन गोस्वामी, ये भारत की पहली महिला तेज गेंदबाज हैं, जिन्होनें अतंरराष्ट्रीय स्तर पर विश्व में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है।

Indian women cricketer Jhulan Goswami.

झूलन की क्रिकेट में शुरुआत एक छोटी सी घटना के साथ हुई थी, बचपन में एक बार क्रिकेट खेलते समय उनके पिता ने उन्हें गेंदबाजी करने से मना कर दिया था। उनके पिता की ये बात झूलन के दिल पर चोट कर गई, फिर क्या था झूलन ने तेज गेंदबाजी को अपनी जिंदगी का अहम हिस्सा बना लिया। 1997 के महिला क्रिकेट वर्ल्ड कप के दौरान ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की प्लेयर बेलिंडा क्लार्क, डेबी हॉकी, कैथरीन फिट्ज़पैट्रिक ने उनके विश्वास को और मजबूती दी।

जरुर पढ़ें:  आईपीएल में तीन घंटे की परफॉर्मेंस देकर इतना कमा लेती है चियरलीडर्स
Jhulan_Gosawami

साल 2006. इंग्लैंड के खिलाफ़ पहली टेस्ट सीरीज़ जीतने में झूलन गोस्वामी हीरो थीं। इस मैच की दोनों इनिंग्स में झूलन ने 5-5 विकेट लिए थे। पहली इनिंग्स में 13 ओवर, 4 मेडेन, 33 रन और 5 विकेट। दूसरीं इनिंग्स में 36.2 ओवर, 21 मेडेन, 45 रन और 5 विकेट. मैच में कुल 10 विकेट। इंग्लैंड की ज़मीन पर इंग्लैंड के ही खिलाफ़ झूलन गोस्वामी का सपना था, कि वो क्रिकेट वर्ल्डकप विजेता टीम का हिस्सा बनें। 2017 का ये वर्ल्ड कप झूलन के लिए हमेशा खास रहेगा. कारण ये कि टीम फाइनल तक पहुंची और इंग्लैंड के खिलाफ इस फाइनल मैच में झूलन ने 3/23 का शानदार स्पेल फेंका. इस उपलब्धि के बाद झूलन की एयर इंडिया में भी प्रमोशन हुआय़ अभी तक झूलन एयर इंडिया में बतौर डिप्टी मैनेजर काम कर रहीं थीं।

जरुर पढ़ें:  शुभमन गिल को आखिर क्यों मिला टीम इंडिया में मौका?
Jhulan_Gosawami_

आईसीसी वुमेन्स क्रिकेटर ऑफ़ द इयर. झूलन गोस्वामी को ये अवार्ड दिया गया। टेस्ट और वन-डे दोनों में ही 22 से नीचे का ऐवरेज। इकॉनमी रेट भी और बॉलर्स से बेहद कम। झूलन को ये अवार्ड मिला एमएस धोनी के हाथों, साल 2007 झूलन इसे ‘Icing on the cake’ बताती हैं। 2010 में अर्जुन अवॉर्ड और 2012 में पद्मश्री से सम्मान से भी नवाजा जा चुका है।

Loading...